Type Here to Get Search Results !

Home Ads 2

अटकन-बटकन दही चटाकन Atakan-batakan Dahee Chataakan Ka Arth

 Atakan-batakan Dahee Chataakan Ka Meaning

अटकन-बटकन दही चटाकन Atakan-batakan Dahee Chataakan Ka Arth
Atakan-batakan Dahee Chataakan Ka Arth

1- ( अटकन )
अर्थ-
जीर्ण शरीर हुआ जीव जब भोजन उचित रूप से निगल तक नहीँ पाता अटकने लगता है--
2- ( बटकन )
अर्थ-
मृत्युकाल निकट आते ही जब पुतलियाँ उलटने लगती हैं-
3- ( दही चटाकन )
अर्थ -
उसके बाद जब जीव जाने के लिए आतुर काल में होता है तो लोग कहते हैँ गंगाजल पिलाओ
4- (  लउहा लाटा बन के काटा )
अर्थ-
जब जीव मर गया तब श्मशान भूमि ले जाकर लकड़ियों से जलाना अर्थात जल्दी जल्दी लकड़ी लाकर जलाया जाना
6- ( तुहुर-तुहुर पानी गिरय )
अर्थ-
जल रही चिता के पास खड़े हर जीव की आँखों में आंसू होते हैं
7- ( सावन में करेला फुटय )
अर्थ-
अश्रुपूरित होकर कपाल क्रिया कर मस्तक को फोड़ना |
8- ( चल चल बेटा गंगा जाबो )
अर्थ-
अस्थि संचय पश्चात उसे विसर्जन हेतु गंगा ले  जाना ।
9- ( गंगा ले गोदावरी जाबो )
अर्थ-
अस्थि विसर्जित कर घर लौटना ।
10- ( पाका-पाका बेल खाबो )
अर्थ-
घर में पक्वान्न (तेरहवीं अथवा दस गात्र में) खाना और खिलाना |
11- ( बेल के डारा टुटगे )
अर्थ-
सब खा-पीकर अपने-अपने घर चले गए  |
12- ( भरे कटोरा फुटगे )
अर्थ-
उस जीव का इस संसार से नाता छूट गया ।
13- ( टुरी-टुरा जुझगे )
अर्थ-
दशकर्म के बाद सब कुछ भुलकर सब कोई अपने-अपने काम धंधा में लग गये |

1- ( Atakan ) Arth- 

Jeern Shareer Hua Jeev Jab Bhojan Uchit Roop Se Nigal Tak Naheen Paata Atakane Lagata Hai--


2- ( Batakan ) Arth- 

Mrtyukaal Nikat Aate Hee Jab Putaliyaan Ulatane Lagatee Hain- 


3- ( Dahee Chataakan ) Arth - 

Usake Baad Jab Jeev Jaane Ke Lie Aatur Kaal Mein Hota Hai To Log Kahate Hain Gangaajal Pilao 


4- ( Lauha Laata Ban Ke Kaata ) Arth- 

Jab Jeev Mar Gaya Tab Shmashaan Bhoomi Le Jaakar Lakadiyon Se Jalaana Arthaat Jaldee Jaldee Lakadee Laakar Jalaaya Jaana 


6- ( Tuhur-tuhur Paanee Giray ) Arth- 

Jal Rahee Chita Ke Paas Khade Har Jeev Kee Aankhon Mein Aansoo Hote Hain 


7- ( Saavan Mein Karela Phutay ) Arth- 

Ashrupoorit Hokar Kapaal Kriya Kar Mastak Ko Phodana | 


8- ( Chal Chal Beta Ganga Jaabo ) Arth- 

Asthi Sanchay Pashchaat Use Visarjan Hetu Ganga Le Jaana . 


9- ( Ganga Le Godaavaree Jaabo ) Arth- 

Asthi Visarjit Kar Ghar Lautana . 


10- ( Paaka-paaka Bel Khaabo ) Arth-

 Ghar Mein Pakvaann (Terahaveen Athava Das Gaatr Mein) Khaana Aur Khilaana | 


11- ( Bel Ke Daara Tutage ) Arth- 

Sab Kha-peekar Apane-apane Ghar Chale Gae | 


12- ( Bhare Katora Phutage ) Arth- 

Us Jeev Ka Is Sansaar Se Naata Chhoot Gaya . 


13- ( Turee-tura Jujhage ) Arth- 

Dashakarm Ke Baad Sab Kuchh Bhulakar Sab Koee Apane-apane Kaam Dhandha Mein Lag Gaye | 

😌😌😄😄😄😉😉😉😘😘😘

👉 हमारे अन्य शायरी वेबसाइट में जाये - wWw.Whatsappindia.in/ 👈

Post a Comment

1 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Your SuggesTion is imporTant For Us, Thank You For CommenTing, We Will bE Able To Reply To Your CommenTs As Soon as Possible.
Regard.... Chhattisgarh.xyz

Get in Touch Join Whatsapp

ग्रुप लिंक

 

 

  • अपनी शायरी, जोक्स, कविता हमें भेजने के लिए निचे दिए गए अपलोड बटन में क्लिक करके भेजे.
  • अगर आपके द्वारा भेजे गए कविता, जोक्स, शायरी अच्छी रहेगी तो हम उसे वेबसाइट में पब्लिश कर देंगे.
  • instagram follow page

    Below Post Ad