Type Here to Get Search Results !

Home Ads 2

Mor Desh मोर देश CG Kavita Author - ShashiBhusan Snehi Bilaigarh

 Mor Desh CG Kavita CG Poem independent Day

Mor Desh मोर देश CG Kavita Author - ShashiBhusan Snehi Bilaigarh
Mor Desh मोर देश CG Kavita Author - ShashiBhusan Snehi Bilaigarh

किसम-किसम के भाखा-बोली

कतका सुघ्घर हे हांसी-ठिठोली


अउ हावय कई ठिन भेष रे संगी

अइसन हे मोर देश रे संगी

अइसन हे मोर देश..


नदिया-नरवा जिंहां परवत-घाटी

हरियर खेती हावय सोनहा माटी


अउ सबले अलगे परिवेश रे संगी

अइसन हे मोर देश रे संगीगी

अइसन हे मोर देश..


देवी-देवता के आयन मनइया

पंथी-जसगीत के हमन गवइया


कहूं ल मारन नही ठेंस रे संगी

अइसन हे मोर देश रे सँगी

अइसन हे मोर देश..


हमर संस्कीरिति सब ला भाथे

बड़ मानथन जब पहुना आथे


कोनो नइ करय कलेष रे संगी

अइसन हे मोर देश रे संगी

अइसन हे मोर देश..


कासमीर अउ कन्याकुमारी हे

भुइयाँ के भीतर मिलथे नारी हे


देथें साधु-संत उपदेश रे संगी

अइसन हे मोर देश रे संगी

अइसन हे मोर देश..


मथुरा-काशी के तीरथ धाम हे

तिरुपति-शिरडी कतको नाम हे


इंहें ब्रम्हा-बिश्नु अउ महेश रे संगी

अइसन हे मोर देश रे संगी

अइसन हे मोर देश..


लेखक - शशिभूषण स्नेही, बिलाईगढ़

Kisam-kisam Ke Bhaakha- Bolee

 Kataka Sughghar He Haansee- Thitholee 


Au Haavay Kaee Thin Bhesh Re Sangee

 Aisan He Mor Desh Re Sangee Aisan He Mor Desh.. 


Nadiya-narava Jinhaan Paravat-ghaatee 

Hariyar Khetee Haavay Sonaha Maatee Au Sabale Alage Parivesh Re Sangee 

Aisan He Mor Desh Re Sangeegee Aisan He Mor Desh.. 


Devee-devata Ke Aayan Maniya 

Panthee- Jasageet Ke Haman Gaviya 

Kahoon La Maaran Nahee Thens Re Sangee 

Aisan He Mor Desh Re Sangee Aisan He Mor Desh.. 


Hamar Sanskeeriti Sab La Bhaathe 

Bad Maanathan Jab Pahuna Aathe Kono Nai Karay Kalesh Re Sangee 

Aisan He Mor Desh Re Sangee Aisan He Mor Desh.. 


Kaasameer Au Kanyaakumaaree He 

Bhuiyaan Ke Bheetar Milathe Naaree He 

Dethen Saadhu- Sant Upadesh Re Sangee 

Aisan He Mor Desh Re Sangee Aisan He Mor Desh.. 


Mathura-kaashee Ke Teerath Dhaam He 

Tirupati- Shiradee Katako Naam He 

Inhen Bramha- Bishnu Au Mahesh Re Sangee 

Aisan He Mor Desh Re Sangee Aisan He Mor Desh.. 


Lekhak - Shashibhooshan Snehee, Bilaeegadh

संगवारी मन ला हमर यह लिखे गए पोस्ट ह कैसे लगीस कमेंट के माध्यम से जरूर बताहू औउ एला दूसर के संग शेयर करेला भुलाहु मत.

आप मन एला व्हाट्सएप औउ फेसबुक टि्वटर या टेलीग्राम जैसे सोशल मीडिया म शेयर कर सकत हव,

जेकर से यह छत्तीसगढ़ के कोना-कोना म पहुंच सके,अउ सब्बोजन एकर पढ़ के आनंद ले सके.

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Get in Touch Join Whatsapp

ग्रुप लिंक

 

 

  • अपनी शायरी, जोक्स, कविता हमें भेजने के लिए निचे दिए गए अपलोड बटन में क्लिक करके भेजे.
  • अगर आपके द्वारा भेजे गए कविता, जोक्स, शायरी अच्छी रहेगी तो हम उसे वेबसाइट में पब्लिश कर देंगे.
  • instagram follow page

    Below Post Ad