Type Here to Get Search Results !

Home Ads 2

CG Shayari 26 January x 15 August सीजी शायरी

CG Shayari 26 January x 15 August Chhattisgarhi

आगे तिहार के दिन जी संगी,सुरता के दिया जलालौ जी।जिखर खातिर आज देश आजाद हे,उँखरे गुन ल गालौ जी ।।
CG Shayari 26 January x 15 August सीजी शायरी

आगे तिहार के दिन जी संगी,

सुरता के दिया जलालौ जी।

जिखर खातिर आज देश आजाद हे,

उँखरे गुन ल गालौ जी ।।

CG Shayari 26 January x 15 August
CG Shayari 26 January x 15 August

दुश्मन बर हम दुश्मन, सिधवा बर निच्चट सिधवा ।

बइरी के चूर कर देबो घमण्ड, हम हिन्दुस्तानी बघवा।।

देश के खातिर जीबो संगी,देशके खातिर मरबो जी।देश ले बढ़ के कोनो नई हे,देश के आनबान बर सब्बोकरम ल करबो जी।।
CG Shayari 26 January x 15 August

देश के खातिर जीबो संगी,देश

के खातिर मरबो जी।

देश ले बढ़ के कोनो नई हे,

देश के आनबान बर सब्बो

करम ल करबो जी।।

CG Shayari 26 January x 15 August
CG Shayari 26 January x 15 August

देश के बेटा हमन किसान भइया,

देश बर अन्न उपजाथें जी।

घाम,प्यास ,पानी, बादर ल सहिके,

देश के मान बढ़ाथें जी।।

CG Republic Day Shayari

ए शायरी नो हय मोर दिल के पुकारए, ए आँसू नो हय खून के धार ए।देश के सेवा सबले बड़े हे ,बिना सेवा इहु तन ह मोरो जिंदा लास ए।।
CG Shayari 26 January x 15 August

ए शायरी नो हय मोर दिल के पुकार

ए, ए आँसू नो हय खून के धार ए।

देश के सेवा सबले बड़े हे ,

बिना सेवा इहु तन ह मोरो जिंदा लास ए।।

CG Shayari 26 January x 15 August
CG Shayari 26 January x 15 August

कतको करलौ तुमन बड़ाई,

फेर उंखर करजा ल नई चुका सकन।

देश बर जान गवाएँ हे तेखर,सुरता ल

कभू नई भुला सकन।।

भारत माता तोर मान के खातिर,तन मन धन कुर्बान हे।भले होजय मोर सीना छलनी,मिटन नई दौ तोर निशान हे।।
CG Shayari 26 January x 15 August

भारत माता तोर मान के खातिर,

तन मन धन कुर्बान हे।

भले होजय मोर सीना छलनी,

मिटन नई दौ तोर निशान हे।।

CG Independent Day Shayari

CG Shayari 26 January x 15 August
CG Shayari 26 January x 15 August

शांति के सन्देश देवइया देश हमर 

ए, ए देश म गंगा बहने दौ।

झन बटव जातिपाती,छुवाछुत म 

सबके पहचान तिरंगा रहने दौ।।

ए देश के रक्षा मैं करहूँ ,ए देश मोर जान ए।एखर आनबान,शान बर,मोर सब कुछ कुर्बान हे।।
CG Shayari 26 January x 15 August

ए देश के रक्षा मैं करहूँ , ए देश मोर जान ए।

एखर आनबान,शान बर, मोर सब कुछ कुर्बान हे।।

CG Shayari 26 January x 15 August
CG Shayari 26 January x 15 August

देश के सम्मान बर जेन मर मिट गें,

ओ वीरमन ल मोर सलाम हे।

अपन खून गिरा के ए धरती के लाज बचाइन,

ओ सपूत मन ल बारम्बार परनाम हे।।

CG Shayari 26 January x 15 August
CG Shayari 26 January x 15 August

जेखर खून देश के खातिर नई खउलै, 

ओ खून नो है पानी ए।

जेन जवानी देश के काम नई आवय, 

ओ बेकार जवानी ए।।

जेन लहू म उबाल नई आय ओलहू का काम के,जेन जवानी देशके काम नई आवय ओ जवानी का काम के।जुग-जुग ले अमर हो जाथे ओखर नाव,आघु म सहीद जुड़ जाथे जेखर नाम के।।
CG Shayari 26 January x 15 August

जेन लहू म उबाल नई आय ओ

लहू का काम के,जेन जवानी देश

के काम नई आवय ओ जवानी का काम के।

जुग-जुग ले अमर हो जाथे ओखर नाव,

आघु म सहीद जुड़ जाथे जेखर नाम के।।

संगवारी मन ला हमर यह लिखे गए पोस्ट ह कैसे लगीस कमेंट के माध्यम से जरूर बताहू औउ एला दूसर के संग शेयर करेला भुलाहु मत.

आप मन एला व्हाट्सएप औउ फेसबुक टि्वटर या टेलीग्राम जैसे सोशल मीडिया म शेयर कर सकत हव,

जेकर से यह छत्तीसगढ़ के कोना-कोना म पहुंच सके,अउ सब्बोजन एकर पढ़ के आनंद ले सके.

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Get in Touch Join Whatsapp

ग्रुप लिंक

 

 

  • अपनी शायरी, जोक्स, कविता हमें भेजने के लिए निचे दिए गए अपलोड बटन में क्लिक करके भेजे.
  • अगर आपके द्वारा भेजे गए कविता, जोक्स, शायरी अच्छी रहेगी तो हम उसे वेबसाइट में पब्लिश कर देंगे.
  • instagram follow page

    Below Post Ad