Type Here to Get Search Results !

Home Ads 2

छत्तीसगढ़ हसदेव जंगल शायरी Save Hasdeo Shayari | Hasdev Quotes | Coal Mine 2022

 Save Hasdeo Jungle Shayari

छतीसगढ़ के हमर आदिवासी भाई, बहन , कका, सियान, महतारी मन के वजूद ल झन मिटे देव |
एमन के साथ खड़े होके आदिवासी क्रन्तिकारी बनव , आउ हमर छत्तीसगढ़ के हसदेव जंगल ला बचाव ,
wWw.instagram.com/igsahu
#savehasdev #hasdev #savehasdeo #hasdeo #chhattisgarh

मोर वजूद ला मिटावत हस ,,काबर तै मोला बली चढ़ावत हस ,,अपन के मरम तै नई जाने ,पर के सुख बर तै,ये कैसे रिश्ता निभावत हस ,,बेचत हस जल जंगल आऊ जमीन ला ,,आऊ हमर आघू खुद ल हितवा बतावत हस
Hasev Shayari

मोर वजूद ला मिटावत हस ,
काबर तै मोला बली चढ़ावत हस ?

अपन के मरम तै नई जाने 
पर के सुख बर तै
ये कैसे रिश्ता निभावत हस ||

बेचत हस जल जंगल आऊ जमीन ला ,
आऊ हमर आघू खुद ल हितवा बतावत हस ||

बेमतलब के पईसा बर गारुख राई ला कटावत हस ,भविष्य दिखत इही करा ले ते गड्ढा म झपावत हस
हसदेव शायरी जंगल बचाव अभियान छत्तीसगढ़

बेमतलब के पईसा बर गा

रुख राई ला कटावत हस ,

भविष्य दिखत इही करा ले 

ते गड्ढा म झपावत हस ||

आऊ कतेक पेड़ कटाही ,कतेक पेड़ ठुढ़गा हो जाही कोन जनि ऐ पेड़ के लासा ,कब तक लहू कस बोहाही
Cgstatus

आऊ कतेक पेड़ कटाही ,

कतेक पेड़ ठुढ़गा हो जाही |

कोन जनि ऐ पेड़ के लासा ,

कब तक लहू कस बोहाही ||

Save Hasdev हसदेव hasdeo
Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ महतारी के कोरा बर,

हमर धान के कटोरा बर  |

सुग्घर साल के बोड़ा बर,

अब तो अपन गोठ रखव .

आवव हसदेव बर गोठ करव ....

हसदेव नदी के अमृतधारा काहा ले तोला मिलही ,कट जाही रुख राई ता फर फुल काहा खिलही बढ़ जाही उमस भारी जड़ हवा काहा मिलही ,उजड़ जाही जंगल झाड़ी ता जड़ी बूटी दवा काहा मिलही
सीजी शायरी

हसदेव नदी के अमृतधारा काहा ले तोला मिलही ,

कट जाही रुख राई ता फर फुल काहा खिलही ||

बढ़ जाही उमस भारी जड़ हवा काहा मिलही ,

उजड़ जाही जंगल झाड़ी ता जड़ी बूटी दवा काहा मिलही ||

Chhattisgarh Hasedev
Garhbo Nava Chhattisgarh Coal Mine Hasdev Jungle

हमर धान के कटोरा ,

अउ तेंदू - महुआ के बोरा |

लूटत हे ऐ परदेसिया मन ,

हमर हसदेव - अरपा के कोरा ||

बर काटे बेईमान रे संगी,पीपर काटे चंडाल हो आमा - लीम ला जेन काटय ,अपन बलावय काल हो
Hasdev Jungle Hasdeo Forest

बर काटे बेईमान रे संगी,

पीपर काटे चंडाल हो |

आमा - लीम ला जेन काटय ,

अपन बलावय काल हो ||

संगवारी मन ला हमर यह लिखे गए पोस्ट ह कैसे लगीस कमेंट के माध्यम से जरूर बताहू औउ एला दूसर के संग शेयर करेला भुलाहु मत.

आप मन एला व्हाट्सएप औउ फेसबुक टि्वटर या टेलीग्राम जैसे सोशल मीडिया म शेयर कर सकत हव,

जेकर से यह छत्तीसगढ़ के कोना-कोना म पहुंच सके,अउ सब्बोजन एकर पढ़ के आनंद ले सके.

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Get in Touch Join Whatsapp

ग्रुप लिंक

 

 

 

  1. अपनी शायरी, जोक्स, कविता हमें भेजने के लिए निचे दिए गए अपलोड बटन में क्लिक करके भेजे.
  2. अगर आपके द्वारा भेजे गए कविता, जोक्स, शायरी अच्छी रहेगी तो हम उसे वेबसाइट में पब्लिश कर देंगे.

 

Below Post Ad